google-site-verification=-0-aIR21I3n381PMBCnT4ad3SVFW6ZHshsbEShjca74 मुसलमानों के खिलाफ नफरत का जहर उगलने वाला news anchor गिरफ्तार
Connect with us

राष्ट्रिय

मुसलमानों के खिलाफ नफरत का जहर उगलने वाला news anchor गिरफ्तार

Published

on

देश के कई न्यूज़ चैनल साम्प्रदायिकता फैलाने का काम कर रहे हैं, यह खुलासा कोबरा पोस्ट के स्टिंग ऑपरेश में हुआ था। न्यूज चैनलो द्वारा फैलाई जा रही सांप्रदायिकता पर सरकारों पर ये इलज़ाम लगता है कि वो ऐसे मामलों में कोई कार्यवाही नहीं कर रही है. लेकिन पहली बार केरल सरकार ने सांप्रदायिकता फैलाने वाले चैनल के एंकर के खिलाफ कार्रावाई की है, केरल पुलिस ने लेकिन इस बारे में एक्शन लिया है.
केरल पुलिस ने सांप्रदायिकता और समाज में नफरत को बढ़ावा देने के आरोप में एक चैनल न्यूज़ एंकर के खिलाफ मामला दर्ज किया है. मातुभूमि टीवी के न्यूज़ एंकर वेणु बालकृष्णन के खिलाफ दो शिकायतें केरल कोल्लम शहर पुलिस को मिली थीं जिसके आधार पर इस एंकर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.
गौरतलब है कि ये डिबेट बीते महीने की सात जून को एक प्रसारित हुई थी. पुलिस अत्याचारों पर चर्चा करते हुए वेणु ने एक मुस्लिम नौजवान के साथ कथित यातना का संदर्भ दिया. समाचार एंकर ने इसके बाद कहा,”मुस्लिम भाइयों, आप लार निगलने के बावजूद रमजान में रोजा रख रहे हैं।” एंकर ने केरल के मुख्यमंत्री के कामों के बारे में बता रहा था जिसमें उसने कहा कि उस्मान ने पुलिस पर हमला किया था.
यह एंकर सीएम के अवलोकन का जिक्र कर रहा था कि उस्मान ने पुलिस पर हमला किया था और वह पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के अध्यक्ष अब्दुल नज़ीर मदनी की न्यायिक हिरासत के विरोध में 2005 में केरल के कोच्चि में तमिलनाडु बस जलने से संबंधित मामले में शामिल था। कोल्लम शहर के पुलिस आयुक्त अरुल बी कृष्णा ने कहा कि पुलिस ने कानूनी मशविरा प्राप्त करने के बाद मामला दर्ज किया है। जब हमें कोई शिकायत मिलती है, तो हमारे पास प्राथमिकी दर्ज करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।
केरल पुलिस ने कहा कि हम जानते हैं कि यह एक संवेदनशील मुद्दा है क्योंकि मीडिया की आजादी के मामले को समझने की संभावना है। इसलिए हमने कानूनी राय मांगी। उधर विपक्षी नेता रमेश चेनिथला ने कहा कि बालकृष्णन के खिलाफ मामला मीडिया आजादी के लिए एक चुनौती थी। उन्होंने कहा कि यह दिखाता है कि मुख्यमंत्री पी. विजयन पीएम मोदी के नक़्शे कदम पर हैं, जो प्रेस की आजादी को दबाने की कोशिश कर रहे हैं।

 

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *