Connect with us

अजब गज़ब

आशीष के इस रवैये से तंग आकर पत्नी ने कर ली बूढ़े भिकारी से शादी ।।

Published

on

आशीष के इस रवैये से तंग आकर पत्नी ने कर ली बूढ़े भिकारी से शादी ।।

SD24 News Network – आशीष के इस रवैये से तंग आकर पत्नी ने कर ली बूढ़े भिकारी से शादी ।। 

नमस्कार और आज के नए लेख में आपका स्वागत है आपके जीवन में कई प्रकार के प्यार हैं जैसे माता-पिता का प्यार, भाई-बहन का प्यार या पति-पत्नी का प्यार जो आपके लिए बहुत मूल्यवान हैं, लेकिन हर घर में छोटे-छोटे झगड़े होते हैं।

ऐसा आमतौर पर बच्चों के साथ हर घर में देखने को मिलता है, जब कभी-कभी मां उन्हें रोजाना एक ही तरह की सब्जियां देने लगती हैं।  जब वे एक ही सब्जी खाकर बोर हो जाते हैं तो एक न एक दिन अपनी मां से कहते हैं कि मां एक सब्जी है हर दिन हम बोर हो जाते हैं।

फिर उसी समय माँ फौरन शादी का मज़ाक उड़ाने लगती है और कहती है कि अगर तुम्हें खाना पसंद नहीं है तो दूसरी माँ ले आओ और जो मेरी सेवा करेगा वह अब मुझसे नहीं करेगा, लेकिन शादी के बाद बच्चों का क्या होगा, बच्चे ही अच्छे से समझ सकते हैं क्योंकि शादी के बाद बच्चों की सारी चिंताएं खत्म हो जाती हैं और घर की जिम्मेदारी बच्चे के कंधों पर आ जाती है।

और साथ ही साथ पिता बनने के बाद उनकी जिम्मेदारियां और भी बढ़ जाती हैं, लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं, वैसे तो दही से ही एक ऐसी चीज जुड़ी है, जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे.  घटना दरअसल यूपी की है, जहां श्रावस्ती नाम की महिला रहती है और उसका पति आशीष रहता है।

बात यह है कि श्रावस्ती के पति आशीष रोज सुबह मजदूरी के लिए टिफिन लेकर बाहर जाते थे।  दिलचस्प बात यह है कि आशीष की पत्नी उसे रोज टिफिन में एक ही तरह की लौकी देती थी, लेकिन फिर भी आशीष ने ऐसा कुछ नहीं कहा जिससे उसे अपने पति पर शक हो।
दरअसल, श्रावस्ती करीब 20 दिनों से अपने पति को चने की सब्जी दे रही थी, लेकिन श्रावस्ती के पति आशीष रोज जब भिखारी के दफ्तर जाते तो उसे सब्जियों का डिब्बा दिया करते थे.  एक दिन आशीष की पत्नी श्रावस्ती शक होने पर उसके पीछे चली गई और सच सामने आ गया और उसी समय उसकी पत्नी ने उसका हाथ पकड़ लिया।

Advertisement

इससे पहले कि आशीष कुछ समझा पाता, भिखारी ने बादलों की ओर देखते हुए प्यार से कहा और एक-दो कविताएँ सुनाईं, उसके बाद क्या होता है?  आशीष की पत्नी श्रावस्ती को लगा जैसे उसे अपना खोया हुआ बचपन का प्यार मिल गया हो।
वहीं श्रावस्ती ने आशीष को तलाक देकर मंदिर में एक भिखारी से शादी कर ली और अब दोनों एक ही मंदिर के सामने बैठकर भीख मांग रहे हैं.  हम अक्सर सुनते हैं कि प्यार की कोई सीमा नहीं होती, कोई उम्र या जाति नहीं होती, प्यार अंधा होता है, लेकिन इस दुनिया में ऐसा भी होता है कि यह एक पल में पूरी जिंदगी बदल सकता है।

आपको यह लेख कैसा लगा, हमें कमेंट करके बताएं और इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ साझा करें।

Continue Reading
Advertisement
1 Comment

1 Comment

  1. Suivre Téléphone

    February 12, 2024 at 8:22 am

    Existe – T – Il un moyen de récupérer l’historique des appels supprimés? Ceux qui disposent d’une sauvegarde dans le cloud peuvent utiliser ces fichiers de sauvegarde pour restaurer les enregistrements d’appels de téléphone mobile. https://www.mycellspy.com/fr/tutorials/how-to-recover-deleted-call-history-from-husband-phone/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *