google-site-verification=-0-aIR21I3n381PMBCnT4ad3SVFW6ZHshsbEShjca74 Musalmano Ki Tabahi Ka Jimmedar Khud MUSALMAN ।। कमजोर पड़ रही मुस्लिम दुनिया ।।
Connect with us

संपादकीय

Musalmano Ki Tabahi Ka Jimmedar Khud MUSALMAN ।। कमजोर पड़ रही मुस्लिम दुनिया ।।

Published

on

SD24 News Network –
Musalmano Ki Tabahi Ka Jimmedar Khud MUSALMAN ।। कमजोर पड़ रही मुस्लिम दुनिया ।।

Musalmano Ki Tabahi Ka Jimmedar Khud MUSALMAN ।। कमजोर पड़ रही मुस्लिम दुनिया ।।

नबी-ए-करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने सिर्फ एक गिरोह (group) तैयार किया था । और उस गिरोह यानी ग्रुप को दुनिया मुस्लिम के नाम से जानती थी । लेकिन अफसोस इख्तिलाफ की बिना पर उलेमा ए सू ने उम्मत को बेशुमार गिरोह (groups)  मे बांट दिया । हर गिरोह दूसरे गिरोह को हक़ीर और जहन्नमी समझता है । जिसकी वजह से दुनिया हम पर थूक रही है ।

मुसलमानो के आपसी इखतलाफ इस उम्मत के लिए सबसे बड़ा अभिशाप मुसलमानों पर लानत बन गए है । जिसकी वजह से इस उम्मत का इत्तेहाद इक्वलिटी खत्म हो रही है । उलेमा का एक गिरोह इन इख्तिलाफ को हवा देकर मुसलमानो के खूनखराबे का जिम्मेदार बन रहा है । इख्तिलाफी बातो की वजह से मुसलमान एक-दूसरे को काफिर तक समझ बैठे है । इसलाम विरोधी लोगो से ज्यादा इस उम्मत के लिए उलेमा ए सू नुकसानदेह साबित हुए है । जो काम 125 सालो मे RSS न कर पाई वो उलेमा ए सू की 25 मिनट की तकरीर ने कर दिया ।

इसलाम दुनिया के सारे मुसलमानों को एक गिरोह बताता है । इस्लाम एक गिरोह में रहने की तरग़ीब देता है । मतलब इस्लाम को मानने मानने वाले सब एक हैं । लेकिन अक्सर भारतीय मुसलमान जिस तरह आपस में बंटे हुए हैं । वो इस्लाम के इस बुनियादी उसूल को ही नकारता है ।
इसी इख्तिलाफ का फायदा इसलाम विरोधी लोग उठाते है । जिसकी वजह से भारत में राष्ट्रवाद के नाम पर मुसलमानों को निशाना बनाया जा रहा है ।

हकीकत ये है कि फिरकेबाजी व मसलक परस्ती की ये दरारें इसलामी कल्चर का हिस्सा नही है । इस्लामी तालीम और हिस्ट्री हमें बहेतरीन नजरिये और तरीके आता करता है। जिसमे मुसलमानो को एक गिरोह के तौर पर बताया गया है । और मुसलमानो को हुक्म दिया गया है एक गिरोह बनकर रहे ताकि आपस मे मतभेद पैदा न हो

Advertisement

इस्लाम इंसानियत के इत्तेहाद पर ज़ोर देता, यह मानव विविधता यानी ह्यूमन डाइवर्सिटी को भी एक्सेप्ट करता है । और समाज में जातीय, कबायली और मजहबी मतभेद से निपटने के लिए कीमती उसूल (सिद्धांत) भी आता करता है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *